Mahatma ji’s cat (महात्मा जी की बिल्ली)

Mahatma ji's cat


महात्मा जी की बिल्ली

एक बार एक महात्माजी अपने शिष्यों के साथ जंगल में आश्रम बनाकर रहते थें, एक दिन कहीं से एक बिल्ली का बच्चा रास्ता भटककर आश्रम में आ गया । महात्माजी ने उस  प्यासे भूखे बिल्ली के बच्चे को दूध-रोटी खिलाया । वह बच्चा वहीं आश्रम में रहकर पलने लगा। लेकिन उसके आने के बाद महात्माजी को एक समस्या उत्पन्न हो गयी कि जब वे ध्यान में बैठते तो वह बच्चा कभी उनकी कन्धे या सिर पर बैठ जाता , कभी गोद में चढ़ जाता  । तो महात्माजी ने अपने एक शिष्य को बुलाकर कहा देखो मैं जब सायं ध्यान पर बैठू, उससे पूर्व तुम इस बच्चे को दूर एक पेड़ से बॉध आया करो। अब तो यह नियम हो गया, महात्माजी के ध्यान पर बैठने से पूर्व वह बिल्ली का बच्चा पेड़ से बॉधा जाने लगा । 

एक दिन महात्माजी की मृत्यु हो गयी तो उनका एक प्रिय काबिल शिष्य उनकी गद्दी पर बैठा । वह भी जब ध्यान पर बैठता तो उससे पूर्व बिल्ली का बच्चा पेड़ पर बॉधा जाता । फिर एक दिन तो अनर्थ हो गया, बहुत बड़ी समस्या आ खड़ी हुयी कि बिल्ली  कि मृत्यु हो गयी। सारे शिष्यों की मीटिंग हुयी, सबने विचार विमर्श किया कि बड़े महात्माजी जब तक बिल्ली पेड़ से न बॉधी जाये, तब तक ध्यान पर नहीं बैठते थे। अत: पास के गॉवों से कहीं से भी एक बिल्ली लायी जाये। आखिरकार काफी ढॅूढने के बाद एक बिल्ली मिली, जिसे पेड़ पर बॉधने के बाद महात्माजी ध्यान पर बैठे।

विश्वास मानें, उसके बाद जाने कितनी बिल्लियॉ मर चुकी और न जाने कितने महात्माजी मर चुके। लेकिन आज भी जब तक पेड़ पर बिल्ली न बॉधी जाये, तब तक महात्माजी ध्यान पर नहीं बैठते हैं। 

कभी उनसे पूछो तो कहते हैं यह तो परम्परा है। हमारे पुराने सारे गुरुजी करते रहे, वे सब गलत तो नहीं हो सकते । कुछ भी हो जाये हम अपनी परम्परा नहीं छोड़ सकते।

यह तो हुयी उन महात्माजी और उनके शिष्यों की बात । 

पर कहीं न कहीं हम सबने भी एक नहीं; अनेकों ऐसी बिल्लियॉ पाल रखी हैं । कभी गौर किया है इन बिल्लियों पर ? 
सैकड़ों वर्षो से हम सब ऐसे ही और कुछ अनजाने तथा कुछ चन्द स्वार्थी तत्वों द्वारा निर्मित परम्पराओं के जाल में जकड़े हुए हैं।

ज़रुरत इस बात की है कि हम ऐसी परम्पराओं और अॅधविश्वासों को अब और ना पनपने दें , और अगली बार ऐसी किसी चीज पर यकीन  करने से पहले सोच लें की कहीं हम जाने – अनजाने कोई अन्धविश्वास रुपी बिल्ली तो नहीं पाल रहे ?




Mahatma ji’s cat






*******************************************************************************

mahaatma jee kee billee

ek baar ek mahaatmaajee apane shishyon ke saath jangal mein aashram banaakar rahate then, ek din kaheen se ek billee ka bachcha raasta bhatakakar aashram mein aa gaya . mahaatmaajee ne us pyaase bhookhe billee ke bachche ko doodh-rotee khilaaya . vah bachcha vaheen aashram mein rahakar palane laga. lekin usake aane ke baad mahaatmaajee ko ek samasya utpann ho gayee ki jab ve dhyaan mein baithate to vah bachcha kabhee unakee kandhe ya sir par baith jaata , kabhee god mein chadh jaata . to mahaatmaajee ne apane ek shishy ko bulaakar kaha dekho main jab saayan dhyaan par baithoo, usase poorv tum is bachche ko door ek ped se bodh aaya karo. ab to yah niyam ho gaya, mahaatmaajee ke dhyaan par baithane se poorv vah billee ka bachcha ped se bodha jaane laga . 


ek din mahaatmaajee kee mrtyu ho gayee to unaka ek priy kaabil shishy unakee gaddee par baitha . vah bhee jab dhyaan par baithata to usase poorv billee ka bachcha ped par bodha jaata . phir ek din to anarth ho gaya, bahut badee samasya aa khadee huyee ki billee ki mrtyu ho gayee. saare shishyon kee meeting huyee, sabane vichaar vimarsh kiya ki bade mahaatmaajee jab tak billee ped se na bodhee jaaye, tab tak dhyaan par nahin baithate the. at: paas ke govon se kaheen se bhee ek billee laayee jaaye. aakhirakaar kaaphee dhaioodhane ke baad ek billee milee, jise ped par bodhane ke baad mahaatmaajee dhyaan par baithe.


vishvaas maanen, usake baad jaane kitanee billiyo mar chukee aur na jaane kitane mahaatmaajee mar chuke. lekin aaj bhee jab tak ped par billee na bodhee jaaye, tab tak mahaatmaajee dhyaan par nahin baithate hain. 


kabhee unase poochho to kahate hain yah to parampara hai. hamaare puraane saare gurujee karate rahe, ve sab galat to nahin ho sakate . kuchh bhee ho jaaye ham apanee parampara nahin chhod sakate.


yah to huyee un mahaatmaajee aur unake shishyon kee baat . 


par kaheen na kaheen ham sabane bhee ek nahin; anekon aisee billiyo paal rakhee hain . kabhee gaur kiya hai in billiyon par ? 


saikadon varsho se ham sab aise hee aur kuchh anajaane tatha kuchh chand svaarthee tatvon dvaara nirmit paramparaon ke jaal mein jakade hue hain.


zarurat is baat kee hai ki ham aisee paramparaon aur aaidhavishvaason ko ab aur na panapane den , aur agalee baar aisee kisee cheej par yakeen karane se pahale soch len kee kaheen ham jaane – anajaane koee andhavishvaas rupee billee to nahin paal rahe ?

Author: BRC Tech

Leave a Reply